श्री हनुमान बालाजी महाराज ने अपने भक्त श्री विनोद बिन्दल को प्रेरणा दी कि वह दिल्ली में उनके एक भव्य मंदिर का निर्माण करायें और जिस स्थान से समाज के विभिन्न मुख्यत: कमजोर वर्गों की समस्त प्रकार से सेवा की जा सके जिसका बीड़ा श्री बिन्दल ने 1996 में उठाया और मंदिर के लिये दिल्ली सरकार से भूमि स:शुल्क उपलव्ध कराने के लिये प्रार्थना पत्र दिया। अनेक व अथक प्रयासों के फलस्वरूप वर्ष 1998 में यह भूमि उपलब्ध हुई जिसके लिये विवेक विहार दिल्ली के उस समय के विधायक श्री रामनिवास गोयल एंव समस्त निवासियों ने पूर्ण सहयोग दिया, मुख्यत: श्री नानकचन्द अग्रवाल, श्री नरेश कुमार गुप्ता, श्री अनिल गुप्ता, श्री शिव कुमार गुप्ता। और मंदिर का निर्माण कार्य उसके बाद शुरू हुआ।12345

darbar-at-presentमंदिर इस समय पूरी तरह से प्रतिष्ठित है तथा यहाँ पर चांदी व सफेद पत्थर में बारीक खुदाई करके चित्रों एवं आकृतियों द्वारा मंदिर भवन का विभिन्न प्रकार से भव्य श्रृंगार कार्य चल रहा है।

श्री संकटमोचन हनुमान बालाजी उक्त स्थान पर 10.04.1998 से अपने भक्तों को दर्शन देकर उन पर कृपा वर्षा कर रहे हैं। श्री संकटमोचन हनुमान बालाजी का दरबार इतना सशक्त है कि वहाँ जाकर सच्चे मन से अपनी इच्छा पूरी करने की दरखास्त लगाने से बिगड़े काम बनते हैं तथा मनचाही इच्छा की पूर्ति होती है। यह मंदिर श्री हनुमान बालाजी का है, जहाँ पर प्रभु की श्री मेहंदीपुर बालाजी रूप में प्राण प्रतिष्ठा है! परन्तु श्री हनुमान जी के प्राय: सभी रूपों का दर्शन यहाँ होगा।

मंदिर में यह प्रयास किया जा रहा है कि यह एक धर्मस्थल के साथ अति सुंदर दर्शनीय स्थल भी हो।

मंदिर में श्रीमद्भागवत कथा, श्री रामकथा एवं श्री कृष्ण के उपदेशों द्वारा समाज को जन कल्याण के लिये जागृत करने का प्रयास निरन्तर होता रहेगा।

श्री तुलसी जी के अति पावन पौधों से एक अत्यंत सुंदर व शान्त उद्यान परिसर में बनाया गया है। जो कि भगवान श्री कृष्ण की रासलीला की झांकी तथा जलप्रपात के निकट होने से अत्यन्त रमणीक स्थल हो गया है।

मंदिर में शिल्पकला द्वारा भारतीय संस्कृति एंव आदर्शों का भी चित्रण हो रहा है। मंदिर में यह प्रयास किया जा रहा है कि यह एक धर्म स्थल के साथ साथ अति सुन्दर दर्शनीय स्थल भी हो। प्रभु के विभन्न रूपों को मूर्ति कला द्धारा प्रस्तुत किया जा रहा है। यहाँ पर स्थित भारत माता की एक भव्य मूर्ति आने वाले पीढियों में सदैव देश प्रेम का संचार करेगी। मंन्दिर भवन के द्वार पर श्री गणेश जी रिद्ध्रि सिद्ध्रि सहित अत्यन्त सुन्दर रूप में विराजेंगे। मंदिर भवन के अंदर हनुमान जी संजीवनी पर्वत को लेकर ऊपर उड़ते दर्शन देंगे। भवन के अन्दर कल्पतरू के नीचे खड़े होकर मन वांछित फल की प्राप्ति होगी।

मंदिर निर्माण में प्रख्यात वास्तुकार एवं शिल्पकार सहयोग कर रहे हैं। सारा निर्माण कार्य उत्तम राजस्थानी सफेद पत्थर का होगा। मंदिर भवन लगभग 12000 वर्ग फीट का है। इसके निर्माण में तकरीबन 15 करोड़ रू0 खर्च होने का अनुमान है। मंदिर के गर्भगृह एवं शयन कक्ष में समस्त प्रष्ठभूमि पर शुद्ध चांदी से श्री हनुमान बालाजी से सम्बन्धित विविध चित्र दर्शित होंगे।

श्री हनुमान बालाजी मंदिर भवन के निर्माण मे विशेष सहयोगी

श्री अशोक कुमार, झुनझुन वाला, 16-D जजेस कोर्ट रोड, अलीपुर, कोलकाता
श्री राजकिशोर गुप्ता, D-69, विवेक विहार, दिल्ली।
श्री दौलत रामजी गुप्ता, C–320, विवेक विहार, दिल्ली।
श्री सतपाल गुप्ता, K–115, हौज खास, नई दिल्ली।
श्री महेन्द्र सिंह, 223-A J & K दिलशाद गार्डन, दिल्ली।
श्री वेद प्रकाश गर्ग, C-333, योजना विहार, दिल्ली।
श्री शरद भार्गव (आर्किटेक्ट), J-1/8, कृष्णा नगर, दिल्ली।
श्री प्रुभ दयाल शर्मा, 168, सिद्धार्थ एन्क्लेव, नई दिल्ली।
श्री प्रदीप सेठी, C-229, सूरजमल विहार, दिल्ली।
श्री राम कीर्तन मण्डल, D-26, विवेक विहार, दिल्ली।
श्री हरिचरण गोयल, B-194, विवेक विहार, दिल्ली।
श्री किशन जालान, 3/95, कर्ण गली, विस्वास नगर, दिल्ली।
श्री नरेन्द्र कुमार गोयल, 104, श्रेष्ठ विहार, दिल्ली।
श्री योगेश जिन्दल, D-6, विवेक विहार, दिल्ली।
श्री आनन्दी लाल बाजोरिया, 6/1/3, क्वींस पार्क, कोलकाता
श्री राजीव वर्मा, C-64, विवेक विहार, दिल्ली।
श्री मुकेश गुप्ता, C-71, आनन्द विहार, दिल्ली।
लाला जय राम दास एवं श्रीमति जमुना देवी चिटकारा, D-162, विवेक विहार, दिल्ली।
श्री संजीव गुप्ता, A-112, सूरजमल विहार, दिल्ली।
श्री सीताराम जिंदल, C-146, विवेक विहार, दिल्ली।
श्री सुनील अग्रवाल, 998, सेक्टर-14, फरीदाबाद।
श्री प्रदीप सिंघल, D-327, आनंद विहार दिल्ली।
श्री नीरज गुप्ता, X-3472/1, गली न.-2, रघुवरपुरा, गाँधीनगर दिल्ली।
श्री अमिताभ गुप्ता, 5C/2, राजनरायण रोड उत्करश फ सिविल लाइन दिल्ली।
श्री गौरिसंकार मित्तल, D-203, विवेक विहार दिल्ली।
श्री क्रांति कृष्ण मेहरा, B-110, GF, विवेक विहार दिल्ली।

श्रीमती ऊर्मिला निर्मल बिन्दल, 167, कैलाश हिल्स, नई दिल्ली।
श्री सीता राम जिन्दल, C-146, विवेक विहार, दिल्ली।
श्री मदन मोहन गुप्ता C-85/C-2, रामप्रस्थ।
श्री सुनील अग्रवाल, 998, SEC 14, फरीदाबाद।
श्री बिपुल बंसल, C-54, G/F, विवेक विहार, दिल्ली।
श्री रमन सब्बरवाल, C-190 G.F. विवेक विहार दिल्ली 110095
श्री नीरज गुप्ता, X-3472/1 गली नम्बर 2, रघुवरपुरा गाँधी नगर 110031
श्री सत्यप्रकाश गुप्ता, ए-191 ए, सूर्य नगर, गाजियाबाद 201011
श्री जय प्रकाश रोजल, बी – 223 , विवेक विहार, दिल्ली 110095
श्री गौरी शंकर मित्तल, डी – 203 विवेक विहार, दिल्ली 110095
श्री गुलजारी लाल अग्रवाल, डी – 329 विवेक विहार, दिल्ली 110095
श्रीमती वनीता बोष, शिवानिका एन्टरप्राइजिज, दिल्ली।
श्री वाई.पी. अग्रवाल, 81, सविता विहार, दिल्ली।
श्री नरेश जैन, 73, कपिल विहार, प्रीतमपुरा, दिल्ली।
मलिक फैमली, A-16, निर्माण विहार, दिल्ली।
श्री जौरावर सिंह, B-66, आनन्द विहार, दिल्ली।
श्री नीरज अग्रवाल, A-343, सूर्य नगर, गाजियाबाद।
श्री विपुल बंसल, C-154, ग्राउंड फ्लोर, विवेक विहार दिल्ली।
श्री रमण सबरवाल, C-190, GF विवेक विहार दिल्ली।
श्री स.प गुप्ता, A-191, आ सूर्यनगर गाज़ियाबाद।
श्री गुलजारी लाल अग्रवाल, D-329, विवेक विहार दिल्ली।
श्री नरेश गर्ग, B-60, पहली मंज़िल, विवेक विहार दिल्ली।


भक्तों से सविनय निवेदन है कि मुक्त हृदय से दरबार के श्रृंगार के लिये भेंट दें।